Monument List
Rate List (In Rupees)
Adult
Child
Bara Imambara , Chota Imambara 50/- 25/-
Bhool-Bhulaiya 40/- 20/-
Shahi Baoli 20/- 10/-
Picture Gallery 20/- 10-
Shahi Hamam 20/- 10-
Know More

 
 
1 10 Muharram
2 Chehlum
3 8 Rabi-ul-Awwal
4 21 Ramzan
 
 

About Kazmain

Kazmain

The Kazmain Rauza was built by a minister in the court of the last King of Awadh—Wajid Ali Shah. His name was Sharaf-ud-Daula. This monument is fashioned after the mausoleum of Hazrat Moosa Kazim and Imam Hazrat Ali Raza. The main building, enclosed in a courtyard, is square in shape with two drum-like structures rising from the roof and culminating in twin domes covered with copper sheets and painted in gold. Four Isfahani minarets rise from the corners of the outer wall. The spacious central chamber houses the ‘Rauza’ and the tombs of Sharaf-ud-Daula and his wife are to be found near the threshold. Some believe that this is a memorial to mark the conversion of Sharaf-ud-Daula into Islam.

Source provided by Mr. Vincent Van Ross

लखनऊ के मंसूर नगर मोहल्ले को मुगल सम्राट शाहजहाँ के वक़्त में अवध के सूबेदार अली षाह कुली खाँ के बेटे मिर्जा मंसूर ने बसाया था। अवध के बादशाह ग़ाजीउद्दीन हैदर के वक़्त में जगन्नाथ नाम के एक दरबारी हुए, जो चैक में रहा करते थे। उनके द्वारा रौजा-ए-काज़मैन बनवाया गया।

लखनऊ में काज़मैन का रौजा इराक़ के मशहूर शहर में बने हुए शियों के सातवें इमाम, हज़रत इमाम मूसा काजि़म और नवें इमाम हज़रत इमाम मोहम्मद तक़ी के रौजे़ के हू-ब-हू नक़ल है। इस भव्य भवन काज़मैन में इन दोनों इमाम हजरत मूसा काजि़म और इमाम मोहम्मद तक़ी की मजार की शबीह (नक़ल) भी बनी हुई है। इसलिये ये काज़मैन कहलाता है।