Monument List
Rate List (In Rupees)
Adult
Child
Bara Imambara , Chota Imambara 50/- 25/-
Bhool-Bhulaiya 40/- 20/-
Shahi Baoli 20/- 10/-
Picture Gallery 20/- 10-
Shahi Hamam 20/- 10-
Know More

 
 
1 10 Muharram
2 Chehlum
3 8 Rabi-ul-Awwal
4 21 Ramzan
 
 

About Satkhanda

Satkhanda

Satkanda is a four-storied watch tower made of red bricks near the Chhota Imambara. ‘Satkanda’ means seven parts or seven stories. According to the original plan, this watch tower was to have seven stories but Nawab Mohammand Ali Shah who started the construction of this watch tower could complete only four floors till his death in 1842. In spite of being an incomplete monument, it has a vague resemblance to the ‘Leaning Tower of Pisa’ in Italy. However, the structural framework has elements of Greek architecture and the arches in the gates and windows display influence of Islamic architecture.

Source provided by Mr. Vincent Van Ross

सत्तखण्डक्व पैलेस नाम की यह इमारत हुसैनाबाद इलाकें में है।

अवध के तीसरे बादहशाह मोहम्मद अली शाह ने सन् 1842 में इसे बनवाया था। भव्य पर पीज़ा (इटली) की सुप्रसिद्ध बांकी मीनार की झलक है। मीनारनुमा इस महल की चैड़ाई और मंजिलों की ऊँचाई सब पीज़ा की मीनार के मेल खाती है बस! म्ेहराबों की डिज़ाइनों में अन्तर है। सत्तख्सण्डा की एक खूबी यह है कि उसकी हर मंजिल पर कोण बदल गये है और मेहराबों की बनावट भी बदल गयी है। लखनऊ की यह मीनार सीधी उठाई जा रही थी जबकि इटली वाली कुछ तिरछी है। पीज़ा की मीनार को पत्थरों से बनाया गया है और लखनऊ का यह भवन लखौड़ी ईट चूने का बना हुआ, जो कि अब खण्डहर होता चला जा रहा है।

बादशाह चाहते थे कि इस ऊँचे भवन की छत्त से लखनऊ की शाही इमारतों के वो झुण्ड देखे जा सकें, जो उस ज़माने में बेबीलोन को मात करते थे।