Monument List
Rate List (In Rupees)
Adult
Child
Bara Imambara , Chota Imambara 50/- 25/-
Bhool-Bhulaiya 40/- 20/-
Shahi Baoli 20/- 10/-
Picture Gallery 20/- 10-
Shahi Hamam 20/- 10-
Know More

 
 
1 10 Muharram
2 Chehlum
3 8 Rabi-ul-Awwal
4 21 Ramzan
 
 

About Bara Imambara

Bara Imambara

The Bara Imambara, also known as Asafi Imambara, represents the crowning glory of Nawabi architecture in Lucknow. It was built at the instance of Nawab Asaf-ud-Daula in two years. The construction began in 1784 AD and ended in 1786—the period of the great famine. ‘Bara’ means Big and ‘Imambara’ means a shrine consecrated to observe Muharram or martyrdom of Hazrat Imam Hussain. Kaifiat Ullah is believed to be the architect of this building project meant to provide employment and source of livelihood to the masses who became penniless following the long spell of famine. The Nawab spent over a million sterling on construction of this Imambara. The main hall houses the mortal remains of Nawab Asaf-ud-Daula, who died in 1797. This hall is: 167 ft long and 52 ft wide and 63 ft in height. This hall is believed to be the world’s largest vault chamber. Among other things, the Bara Imambara complex is also famous for its Bhool-Bhuliya or labyrinth. The Bara Imambara now flaunts a lawn and a garden in front of the façade. Nawab Asaf-ud-Daula was a great builder and is credited with construction of many monuments.

Source provided by Mr. Vincent Van Ross

आसफुद्दौला का इमामबाड़ा सन् 1784 के अकाल के बावजूद आसफुद्दौला ने इस कि़ले जैसी इमारत को बनवाया, जो 6 बरस में तैयार हुआ था। बड़ा इमामबाड़ा इण्डोसिरेसिनिक वास्तुकला की एक लाजवाब मिसाल है और नवाबों की सबसे षानदार इमारत है। इमामबाड़े का नक्षा किफायतउल्लाह षाहजहानाबादी ने तैयार किया था, ये इमारत आज तक सारी दुनिया में अजूबा बनी हुई है। इसमें संसार का वह सबसे बड़ा हाॅल है जिसमें न खंभे हैं न लोहा है और न लकड़ी का इस्तेमाल किया गया है। 163 फुट लम्बे, 53 फुट चैड़े 50 फुट ऊँचे इस हाॅल की छत कमानदार डाटांे से बनी हुई है, और इसे बख़ूबी रोका गया है। इस लदावदार छत के ऊपर बनी हुई भूलभुलैया किफ़ायतउल्लाह के ख़्याल की तस्वीर है। इस भूलभुलैया में 1024 दरवाजे़ एक जैसे बने हुए हैं, जो उसे मधुमक्खी के छते जैसे जालदार और अनोखी डिज़ाइन देते है। आगे-पीछे 60 गज लम्बे, 20 गज अर्ज़ वाले बरामदे हैं। पीछे का बरामदा षाहनषीन बना हुआ है और आगे के बरामद में मजलिसे होती है।